Wednesday, October 20, 2010

डर लगता है . . . . . . .


जब उठती है नही तमन्नाये
और दिल चाहता है उड़ जाने को
ये सोच कर की कही तोड़ ना दू समाज के इस पिंजरे को
मुझे अपने आप से डर लगता है

जब लक्ष्य ढूढने को उठते है कदम
और देखती हु बंदिशों में थमी जिंदगी को
ये सोच कर की कही छेद न दू द्वंद खुद में
मुझे अपने आप से डर लगता है

जब देखती हु अपने आप को
अपना अस्तित्व खोजते हुए
ये सोच कर की कही झुठला न दू खुद को
मुझे अपने आप से डर लगता है

जब याद आते है अनकहे अधूरे सपने
और उन्हें पूरा करने में असक्षम मैं
ये सोच कर की कही दफ़न न कर दू उन्हें अपने अन्दर
मुझे अपने आप से डर लगता है

24 comments:

  1. श्वेता जी, मैं आपकी कविताओं और गज़लों का नियमित पाठक हूँ और इन्तेज़ार करता रहता हूँ कि कब आपका नया पोस्ट आएगा.

    आज आपका नया पोस्ट देखकर बहुत खुशी हुयी. आपकी कविताओं में अपने अस्तित्व को लेकर जो दर्द रहता है,वह सबके दिल के दर्द को जुबान देता है.

    इस कविता में आपने जिस द्वन्द और डर का जिक्र किया है, उसे हर संवेदनशील दिल महसूस करता है.

    आपके अंदर अपना गहन अस्तित्वबोध है,जिसे बहुत कम लोग महसूस कर पाते हैं और जो महसूस करते हैं उन्हें वही डर और द्वन्द से जिंदगी भर जूझना पड़ता है.

    मैं तो यही कहूँगा कि आप सारे डर त्याग करके अपनी आज़ादी का रास्ता अपनाइए.

    नई पोस्ट का इन्तेज़ार रहेगा.

    OCTOBER 20, 2010 9

    ReplyDelete
  2. श्वेता जी आपका ब्लॉग पहली बार पढ़ा। आपकी रचनाएं अति सुंदर हैं। दुआ है कि आप इसी तरह अपनी रचनाएं पाठकों तक पहुंचाती रहें।

    ReplyDelete
  3. rajiv ji aapka bohot bohot dhanyawad....accha laga ki mere andar ke dhwand ko aap itni acchi tarah samajh paye... mere vichar me aapko meri kavita "hasrat" ( http://jindalshweta.blogspot.com/2010/08/blog-post.html )
    padni chahiye shayad aapko pasand aayegi..
    @jitendra ji : aapka swagat hai

    ReplyDelete
  4. क्या कहूँ भावनाओं के बारे में..अपने अंदर की चीजों को इतना आप कैसे समझ लेते हो...और समझने के अलावा उसे शब्दों में कैसे बाँध लेते हो...मेरे पास तो इतने शब्द नहीं की तारीफ़ सही तरीके से कर पाऊं...

    ReplyDelete
  5. जब लक्ष्य ढूढने को उठते है कदम
    और देखती हूं बंदिशों में थमी जिंदगी को...
    बहुत अच्छी प्रस्तुति...
    हम सब कहीं न कहीं इसी स्थिति में होते हैं.

    ReplyDelete
  6. ब्लाग जगत की दुनिया में आपका स्वागत है। आप बहुत ही अच्छा लिख रहे है। इसी तरह लिखते रहिए और अपने ब्लॉग को आसमान की उचाईयों तक पहुंचाईये मेरी यही शुभकामनाएं है आपके साथ
    ‘‘ आदत यही बनानी है ज्यादा से ज्यादा(ब्लागों) लोगों तक ट्प्पिणीया अपनी पहुचानी है।’’
    हमारे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

    मालीगांव
    साया
    लक्ष्य

    हमारे नये एगरीकेटर में आप अपने ब्लाग् को नीचे के लिंको द्वारा जोड़ सकते है।
    अपने ब्लाग् पर लोगों लगाये यहां से
    अपने ब्लाग् को जोड़े यहां से

    कृपया अपने ब्लॉग पर से वर्ड वैरिफ़िकेशन हटा देवे इससे टिप्पणी करने में दिक्कत और परेशानी होती है।

    ReplyDelete
  7. kavita kisi na kisi dwand ke bad hi upajti hai, sahmati

    ReplyDelete
  8. आपकी रचनाएं अति सुंदर हैं। धन्यवाद|

    ReplyDelete
  9. अंतर्द्वंद को उजागर करती प्रशंसनीय प्रस्तुति

    ReplyDelete
  10. हमारी तरफ से आपको बढ़िया लेखन के लिए बधाई .....

    ReplyDelete
  11. जब देखती हु अपने आप को
    अपना अस्तित्व खोजते हुए
    ये सोच कर की कही झुठला न दू खुद को
    मुझे अपने आप से डर लगता

    lovely lines .

    .

    ReplyDelete
  12. श्वेता जी,

    आज पहली बार आपके ब्लॉग पर आना हुआ.......अच्छा लगा आपका ब्लॉग......भावनाओ को सही ढंग से शब्दों में पिरोया है आपने......पोस्ट के साथ लगी तस्वीर पोस्ट के साथ पूरी तरह से इन्साफ कर रह है.......आपकी पसंद अच्छी है......कुछ मात्रात्मक गलतियाँ मिली....हो सके तो सुधार करें.......इस उम्मीद में आपको फॉलो कर रहा हूँ की आगे भी ऐसे ही बढ़िया पड़ने को मिलेगा ...............शुभकामनायें|

    कभी फुर्सत में हमारे ब्लॉग पर भी आयिए-
    http://jazbaattheemotions.blogspot.com/
    http://mirzagalibatribute.blogspot.com/
    http://khaleelzibran.blogspot.com/
    http://qalamkasipahi.blogspot.com/

    एक गुज़ारिश है ...... अगर आपको कोई ब्लॉग पसंद आया हो तो कृपया उसे फॉलो करके उत्साह बढ़ाये|

    ReplyDelete
  13. इस कृति की जितनी तारीफ़ की जाए कम है. साधुवाद.
    निरंतर लेखन हेतु शुभकामनाएं.
    ---
    वात्स्यायन गली

    ReplyDelete
  14. स्वेता जी, हमने अपने ब्लॉग के आपके इस कविता पर एक छोटा सा आलेख लिखा है,अगर आपको कोई आपत्ति हो तो हमें सूचित कीजियेगा.

    ReplyDelete
  15. आप क्या केवल नकारात्मक ही लिखती है.?

    ReplyDelete
  16. hey waise to bahut sare logon ne taarif kar di hai teri but phir bhi yaar bahut acha likha hai keep it up waise jyada hawa me mat udna (just joking)

    ReplyDelete
  17. जब देखती हु अपने आप को
    अपना अस्तित्व खोजते हुए
    ये सोच कर की कही झुठला न दू खुद को
    मुझे अपने आप से डर लगता है

    ...अपने अस्तित्व की खोज जिसे लगी , वह डरना भूल जाता है ...खुद को जुठलाने की न सोचे ...

    सुंदर कविता !!!

    ReplyDelete
  18. इस नए सुंदर से ब्‍लॉग के साथ हिंदी ब्‍लॉग जगत में आपका स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  19. शानदार प्रयास बधाई और शुभकामनाएँ।

    एक विचार : चाहे कोई माने या न माने, लेकिन हमारे विचार हर अच्छे और बुरे, प्रिय और अप्रिय के प्राथमिक कारण हैं!

    -लेखक (डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश') : समाज एवं प्रशासन में व्याप्त नाइंसाफी, भेदभाव, शोषण, भ्रष्टाचार, अत्याचार और गैर-बराबरी आदि के विरुद्ध 1993 में स्थापित एवं 1994 से राष्ट्रीय स्तर पर दिल्ली से पंजीबद्ध राष्ट्रीय संगठन-भ्रष्टाचार एवं अत्याचार अन्वेषण संस्थान- (बास) के मुख्य संस्थापक एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं। जिसमें 05 अक्टूबर, 2010 तक, 4542 रजिस्टर्ड आजीवन कार्यकर्ता राजस्थान के सभी जिलों एवं दिल्ली सहित देश के 17 राज्यों में सेवारत हैं। फोन नं. 0141-2222225 (सायं 7 से 8 बजे), मो. नं. 098285-02666.
    E-mail : dplmeena@gmail.com
    E-mail : plseeim4u@gmail.com

    ReplyDelete
  20. seems u have written a few poems. was not checking for few days.

    good thoughts

    ReplyDelete