Thursday, December 29, 2011

जिन्दगी . . . . .

जिन्दगी को समझने में निकल रही है जिन्दगी

एक खाली किताब पढने में निकल रही है जिन्दगी



नक़ल हम भी बंदरो से कुछ कम नही करते

दुसरो के चोलो में निकल रही है जिन्दगी



जिन कहानियो में मेरा ज़िक्र तक नही है

उलझ कर उनमे निकल रही है जिंदगी



सुबह को शाम , शाम को सुबह का इंतज़ार करते है

ना जाने किस चाह में निकल रही है जिंदगी



जब सवाल नही उठा था तब खुश थे हम

पर अब एक सवाल बनके निकल रही है जिंदगी

7 comments:

  1. नव-वर्ष की शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  2. great write-up to sketch life in few line. :) nice poem.

    ReplyDelete
  3. Zindgi yun hi zindgi nahi hoti...maine bhi likha tha ek jagah zingi ne zindgi ko zindgi bankar chhala hai....

    zindgi ke garbh mein palti hai zindgi....aur zindgi ke liye hi fir dhalti hai zindgi...

    aapki rachna ne prabhawit kia...likhte rahiye.

    ReplyDelete
  4. hone lage hai tajkire khuda se
    ek bashar ka mujpe asar dekhiye

    lagta hai mujhe insaan se behtar
    aap bhi gaur se ek bandar dekhiye,

    welcome to my blog www.utkarsh-meyar.blogspot.in

    ReplyDelete