Tuesday, August 23, 2011

तेरे इश्क में........


ऐसी बारिश हुई मैं हरी हो गयी
अबतक तो थी मैं खोटी अब खरी हो गयी

अब तक तो तन ये लगता था बेमोल बस माटी सा
तुने छुआ तो सोने की मैं जरी हो गयी

सौतन सी कुछ लगी तुझे छु के गुजरती हवा
सब कहने लगे देखो ये बावरी हो गयी

इलज़ाम था की मुझमे प्रेमरस नही बहता
तुझे शिद्दत से यु चाहा की मैं बरी हो गयी

जोगन सी बेटी देख कर रोती है मेरी माँ
छोरी ये जन मुसीबत नरी हो गयी

9 comments:

  1. बहुत ही सुन्दर शब्दों के चयन द्वारा सुन्दर विचारों को सुन्दर कविता का रूप दिया है आपने :))

    ReplyDelete
  2. like !!!!! who is the inspiration?????

    ReplyDelete
  3. अच्छी कविता | आपका ब्लॉग अच्छा लगा | फोलो भी कर लिया |
    कृपया मेरी रचना देखें और ब्लॉग अच्छा लगे तो फोलो करें |
    सुनो ऐ सरकार !!
    और इस नए ब्लॉग पे भी आयें और फोलो करें |
    काव्य का संसार

    ReplyDelete
  4. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच

    ReplyDelete
  5. Hi I really liked your blog.

    I own a website. Which is a global platform for all the artists, whether they are poets, writers, or painters etc.
    We publish the best Content, under the writers name.
    I really liked the quality of your content. and we would love to publish your content as well. All of your content would be published under your name, so that you can get all the credit for the content. This is totally free of cost, and all the copy rights will remain with you. For better understanding,
    You can Check the Hindi Corner, literature and editorial section of our website and the content shared by different writers and poets. Kindly Reply if you are intersted in it.

    http://www.catchmypost.com

    and kindly reply on mypost@catchmypost.com

    ReplyDelete
  6. sundar rachna!!

    agar kabhi samay mile to mere blog ko ek dafe dekhen. . http://kushkikritiyan.blogspot.com/

    aabhar,
    shiva

    ReplyDelete




  7. प्रिय श्वेता जी
    सस्नेहाभिवादन !


    तेरे इश्क में...ऐसी बारिश हुई मैं हरी हो गयी
    बहुत सुंदर ! मन को छूती हुई पंक्ति है !

    इलज़ाम था कि मुझमें प्रेमरस नही बहता
    तुझे शिद्दत से यूं चाहा कि मैं बरी हो गयी

    वाह ! भाव और शब्दों के तालमेल से बहुत रोचक लिखा आपने , बधाई ! …और हां , नरी शब्द का आपने अच्छा प्रयोग किया :)

    इसी से जुड़ता एक बंध मेरी ओर से भी …
    हैरां है ज़माना मुझे देख-देख कर आजकल
    मैं इसी जहां की हूं या परी हो गई

    :)

    आपको सपरिवार
    बीते हुए हर पर्व-त्यौंहार सहित
    आने वाले सभी उत्सवों-मंगलदिवसों के लिए
    हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete